अंधेरे में कविता का सारांश(kavita mein kavita ka saraansh)

• रचयिता :- मुक्तिबोध

• लंबी कविता

• मुक्तिबोध की अंतिम कविता

• लिखी गयी :- 1952 से 1962 के बीच, अंतिम संशोधन 1962 में

• पहला प्रकाशन :- आशंका के द्वीप अंधेरे में, शीर्षक से कल्पना पत्रिका में, नवंबर 1964 में

• काव्य नायक (दो नायक) :-
(1.) काव्य नायक :- में
(2.) स्वप्न का नायक :- अन्य

• अंधेरे में शीर्षक कविता में मुक्तिबोध ने भयाक्रांत शोषित वर्ग का चित्रण किया है।

• ‘अंधेरा में’ कविता फैटेसी में निर्मित है।

• फैटेसी जाग्रत स्वप्न चित्रावली है।

• इस काव्य संग्रह में संकलन :- चाँद का मुंह टेढ़ा (1964 )

• ‘अंधेरे में’ शीर्षक कविता को कवि अपने सर्जन काल में ‘आशंका के द्वीप :अंधेरे में’ नाम दिया था। जिसे कवि इच्छा से ही बाद में ‘अंधेरे में’ शीर्षक के रूप में रहने दिया।

• 1963 में मुक्तिबोध ने अग्न्येश्का नामक एक पोलिश महिला को ‘अंधेरे में’ कविता भेजने से पूर्व एक पत्र में लिखा था कि “उसमें एक आशंका है, अंधेरी आशंका का वातावरण है, कहीं हमारे भारत में ऐसा – वैसा ना हो।”

• मुक्तिबोध की मृत्यु के बाद कल्पना के 1964 में एक अंश में यह कविता ‘आशंका के द्वीप अंश हटा दिया गया था। यह काम पुस्तक के संकलनकर्ता श्रीकांत वर्मा ने मुक्तिबोध की इच्छा से किया था।

• यह मुक्तिबोध की सबसे लंबी कविता है करीब 40 पृष्ठों की।

• इसमें अधिक विस्तार से मार्शल लॉ का ही वर्णन है।

• अंधेरे में आधुनिक हिंदी में अकेली कविता है जो चार सौ साल औपनिवेशिक ज्ञानकांड और कालरूप को बहुआयामी चुनौती देती है।

• अंधेरे में कविता की संरचना की सबसे बड़ी विशेषता :- परस्पर विरोधी भावचित्रों का धूपछॉही मेल, जिसे आ.रामचंद्र शुक्ल विरुद्धों का सांमजस्य कहते है।

• अंधेरे में कविता की मुख्य वस्तु है :- देश में कायम फासिस्ट हुकूमत और उससे जुड़ा हुआ है उस परिस्थिति में एक सचेत और प्रगतिशील में मध्यवर्गीय बुद्धिजीवी का आत्मसंघर्ष है।

• फासिस्ट हुकूमत ने जनक्रांति को दबाने के लिए मार्शल लॉ लागू किया था लेकिन क्रांति उससे दबती नहीं है और यह फूट पड़ती है।

• अंधेरे में कविता में केवल फासिस्ट की आशंका और उसे खत्म करने के लिए होने वाली जनक्रांति का ही नहीं है उसमें एक व्यक्ति भी है जिसकी ऊपर काव्य नायक के रूप में चर्चा की गयी है।

• यह पूरी कविता उस व्यक्ति के माध्यम से वृक्ष या ही आगे बढ़ती है, इसलिए उसे काव्य नायक कहना उचित है। यह काव्य नायक एक संघर्ष में पड़ा हुआ है चुंकि यह सचेत मध्यवर्गीय बुद्धिजीवी हैं,इसलिए देश में जो राजनीतिक दुर्घटना हुई उससे वह न केवल परिचित है बल्कि आंदोलन भी है।

• अंधेरे में शीर्षक कविता मुक्तिबोध की सशक्त और और मार्मिक कविता उनके नागपुर जीवन के बहुत सारे संदर्भ अपने अंदर समेटे हुए हैं। उन संदर्भो में सबसे महत्वपूर्ण है एम्प्रेस मिल के मजदूरों की हड़ताल और उन पर चलाई गई गोलियां। गोलीकांड के समय एक अखबार के रिपोर्टर की हैसियत से मुक्तिबोध घटनास्थल पर मौजूद थे और उन्होंने सिरों का फुटना और खून का बहना अपनी आंखों से देखा था।

• मुक्तिबोध इस घटना को व्यापक राजनीतिक से देखा और एम्प्रेस मिल के गोलीकांड से लेकर पुस्तक को प्रतिबंधित किए जाने तक के तथ्यों से यह निष्कर्ष निकाला कि यदि हम सावधान न रहे, तो हमारी स्वतंत्रता हुकूमत कायम हो सकती है । उनकी इसी आशंका या दुःस्वपन की महान काव्यात्मक परिणति है :- अंधेरे में शीर्षक कविता

• अंधेरे में शीर्षक कविता में कवि की कोमल अनुभूतियों की भी अभिव्यक्ति हुई है।

• कवि ने रात्रि श्यामल ओस से घुले हुए अस्तित्व की जिस महक को प्रस्तुत किया है वह कवि की कोमलता, करुणाशीलता से जुड़ी हुई है चेतना की उजागर करने वाली अभिव्यक्ति है।

• कविता में स्पर्श बिम्ब, विराट बिम्ब, व्याकरण एवं भाषा संबंधी बिम्ब प्रयोग किया गया है।

• कविता की प्रमुख शैली :- फैटेसी

• अंधेरे में कविता को व्यक्त विचारों को तीन भागों में बांटा जा सकता है :-
1. अस्मिता की खोज
2. मृतक दल की शोभा यात्रा
3. सैनिक शासन तथा जन क्रांति

• इस स्थिति में कवि विभिन्न परिस्थितियों से जुझता हुआ गहन रहस्यमय अंधकार को पहचानने की कोशिश करता है।

• इसी स्थिति में उसे टालस्टाल जैसे महान कलाकार का स्मरण हो जाता है कि कविता आगे बढ़ती है और कवि को किसी मृत्युदल की शोभा यात्रा और सैनिक शासन का भयावह दृश्य अनुभव होने लगता है जिसे यह कविता अपने चित्रित करने लगती है।

• शोभायात्रा में उसे अनुभव होता है कि समाज के विभिन्न वर्गों के ठेकेदार मंत्री, उद्योगपति आदि शामिल है। उन्ही के साथ बदनाम हकारा भी शामिल है। इसके साथ ही कवि आधी रात के अंधकार में सभी षड्यंत्रकारी कारनामों की झलक भी देख लेता है।

• इस शोभायात्रा में कवि को वह व्यक्ति भी दिखा लाई पड़ता है जो गोली मारता है। इससे कवि दुःख का बोध होता है। परिणामस्वरूप उसके रोष का भी अभिव्यक्ति होती है और उसके मन में विद्रोह स्वर जाग जाते हैं।
• उसका विद्रोही अपने आप से तो है ही साथ ही साथ समाज विसंगतियों से भी जो हमारे वातावरण को विकृत कर रही है।

• इसमें वर्तमान की भय व आतंक कारी दृश्य दृश्य का जीवन में बीते 1 घंटे घटनाक्रम का गांधीजी की हत्या के संदर्भ में वर्णन है

• इस कविता का मूल कथ्य :- अस्मिता की खोज

• “अंधेरे में शीर्षक कविता में इस अस्मिता की खोज को नाटकीय रूप दिया है।” (डॉ नामवरसिंह के अनुसार)

• “अंधेरे में कविता Gurrwinca in verse है।इसके बहुत से अंश विकासों हो को विश्व – प्रसिद्ध चित्र जैसा ही प्रभाव डालते हैं।”(डॉ.प्रभाकर माचवे के अनुसार)

• “अंधेरा में शीर्षक कविता में उनकी काव्यात्मक शक्ति के अनेक तत्व घुल – मिलकर एक महान रचना की सृष्टि करते हैं जो रोमानी होते हुए भी अत्यधिक यथार्थवादी और एककदम आधुनिक है।” (डॉ.प्रभाकर माचवे के अनुसार)

• “अंधेरे में कविता को कवि के व्यक्ति की परम अभिव्यक्ति की खोज कहा है।”(डॉ.नामवरसिंह के अनुसार)

• “कविता मुक्तिबोध की आन्तरिक संघर्ष की जान पड़ती है। इसमे घोर अवसाद और घोर विद्रोह तत्व है।”(गंगा प्रसाद के अनुसार )

• “अंधेरे में कविता का काव्य नामक मुक्तिबोध है ।फिर भी इस कविता का काव्य नायक कोई और है या स्वयं मुक्तिबोध इसमें कोई अंतर नहीं पड़ता है।” (डॉ नामवर सिंह के अनुसार)

• अंधेरे में शीर्षक कविता उनकी सशक्त और मार्मिक कविता उनके नागपुर जीवन के बहुत सारे संदर्भ अपने अंदर समेटे हुए ।(शमशेर बहादुर सिंह के अनुसार)

• “अंधेरे में कविता देश के आधुनिक जन – इतिहास का स्वतंत्रता – पूर्व और पश्चात का एक दहकता इस्पाती दस्तावेज है। इसमें अजब और अद्भूत रूप में व्यक्ति और जन का समीकरण है।”(शमशेर बहादुर सिंह के अनुसार)

• अंधेरे कविता की जटिलता और दुरुहता के बीच अंतर्निहित प्रगतिवादी स्वर को ही मूल स्वर मानना संगत होगा।

• शमशेर बहादुर सिंह ने ‘अंधेरी में’ कविता को जन- इतिहास का दहकता इस्पाती दस्तावेज कहते है जिसमें मुक्तिबोध वाल्टर हिटमैन व मायकोवस्की से टक्कर देते हैं ।

◆ “अंधेरे में ” कविता की महत्वपूर्ण पंक्तियां :-

1. स्वातन्त्र व्यक्ति का वादी
छल नहीं सकता मुक्ति के मन को जन को

2. जिंदगी के…..
समरों में अंधेरे
लगता है चक्कर
कोई एक लगाताए,
कविता का आरंभ तिलस्त्री खोह के रहस्य दृश्य से होता है। यहां ‘जिंदगी का अंधेरा कमरा’ अवचेतन को मानना है।

3. बहुत – बहुत ज्यादा लिया,
दिया बहुत – बहुत कम,
मर गया देश, अरे, जीवित रह गए।

4 comments

  1. Thanks so much bhai ji Kavita and explanation are very good

  2. नमस्ते!

    मुझे खुशी है कि मैं आपको एक क्रांतिकारी मार्केटिंग टूल के बारे में पेश कर रहा हूँ, जो आपको उच्च गुणवत्ता वाले मार्केटिंग सामग्री बनाने की अनुमति देता है जो Google द्वारा AI द्वारा उत्पन्न किया गया माना नहीं जाता है।

    हम सभी जानते हैं कि Google ऐसे ब्लॉग और कंपनियों को कठोरता से दंडित करता है जो AI का उपयोग करके सामग्री उत्पन्न करते हैं, लेकिन इस उपकरण के साथ, आप अद्वितीय सामग्री उत्पन्न कर सकते हैं जो बेहतर रैंक करेगी और आपकी पहुंच को 450% तक बढ़ाएगी।

    यह AI अद्यतित समय में मार्केटिंग स्कूल में आपकी सामग्री को भेज रही है और आपके प्रतियोगियों को चतुरतापूर्वक पीछे छोड़ रही है। इस उपकरण के साथ, आप अपनी गतिविधि, क्लिक दर, परिवर्तन दर को त्रिप्ल कर सकते हैं, सिर्फ कुछ हफ्तों में अपनी साइट पर सैकड़ों हजार ऑर्गेनिक आगंतुकों को जोड़ सकते हैं!

    यह AI, 130 से अधिक मार्केटिंग कौशलों में प्रशिक्षित, 3 साल तक सर्वोत्तम मार्केटिंग विशेषज्ञों के साथ काम करने के द्वारा उद्योग की सर्वोत्तम पाठों की रचना करना सीखी है। यह पाठ और ग्राफिक्स को 10 गुना तेजी से और आसानी से बना सकती है, SEO के वैधानिक ऑप्टिमाइजेशन और उपयोगकर्ता संगणना के साथ।

    यह AI वीडियो विक्रय, स्क्रिप्ट, ब्लॉग, SEO सामग्री, ईमेल, सोशल मीडिया थ्रेड, ईकॉमर्स कॉपी और बहुत कुछ लिख सकती है। यह आपको सही कीवर्ड्स ढूंढ़ने में मदद कर सकती है, जहां आपको प्रतिभाशी ट्रैफिक और विज्ञापन लागत की जानकारी मिलती है, ताकि आप अपने ब्रांड को आसानी से विकसित कर सकें। उन्नत उपयोगकर्ताओं के लिए, कीवर्ड्स के ग्रुपिंग उपलब्ध हैं।

    आप इस उपसंपादक से कुछ भी पूछ सकते हैं, सोशल मीडिया थ्रेड से लेकर वीडियो स्क्रिप्ट, ईमेल और विक्रय संरचनाओं तक।

    यह समाधान वाणिज्यिक रचना के लिए सामरिक लेखन को बेहतर बनाने के लिए वाणिज्यिक खोज को एकत्रित करने वाला एकमात्र उपकरण है। इस तरह आप कुछ क्लिक में अपने दर्शक के लिए व्यक्तिगत सामग्री बना सकते हैं।

    Google के एल्गोरिदमों को AI का उपयोग करने के लिए आपके व्यापार को कठोरता से दंडित न करें। इस उपकरण के साथ, आप अपनी ऑनलाइन प्रतिष्ठा को सुधारने वाली गुणवत्ता वाली सामग्री उत्पन्न करते हुए अपने आप को सुरक्षित कर सकते हैं।

    और एक नई सुविधा आ रही है: सोचिए, अगर आप ChatGPT की AI की शक्ति को SEO के लिए AI के साथ मिला सकते हो, तो कैसा असर होगा! यद्यपि ChatGPT अद्भुत है, लेकिन वाणिज्यिक खोज के लिए यह क्षमताएं कम हो सकती हैं, लेकिन अगर आप एक साथ दोनों तकनीकों का समय सारणी में उपयोग कर सकें, तो संभावनाएं क्या होंगी, यह सोचिए।

    इस क्रांतिकारी उपकरण को खोजने के लिए अब और निर्णय न लें। अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: https://tinyurl.com/2p88vvav (इस कोड के साथ आपके पास 10% की अत्याधिकारिक छूट के लिए एक अनुसरण का कोड है: 10_TRUSTED_REFERRAL)

    तेजी से कार्रवाई करें, क्योंकि AI द्वारा उत्पन्न की गई सामग्री को कठोरता से दंडित किया जाता है, और आप चाहेंगे कि यह आपके व्यापार के साथ न हो।

    सँगता

    मोटर खोज में बेहतर पोजीशन प्राप्त करने के लिए AI का उपयोग करना व्यापारों के लिए लगातार अधिक महत्वपूर्ण हो रहा है, और इसके कई कारण हैं:

    अधिक सटीकता: AI संचालित एल्गोरिदम बड़े मात्रा में डेटा का विश्लेषण कर सकते हैं और अधिक सटीक खोज परिणाम प्रदान कर सकते हैं, जिससे अधिक उच्चतम रैंकिंग की संभावनाएं बढ़ती हैं।

    व्यक्तिगतकरण: AI उपयोगकर्ता के व्यवहार का विश्लेषण कर सकता है और उनके हितों और पसंदों पर आधारित व्यक्तिगत खोज परिणाम प्रदान कर सकता है।

    अवतरण: AI मदद कर सकती है वेबसाइट की सामग्री, कीवर्ड और मेटाडेटा को अच्छी खोज रैंकिंग प्राप्त करने के लिए अद्यतन करने में।

    स्वचालनीकरण: AI की मदद से SEO से संबंधित कई उबाऊ और समय लेने वाले कार्यों को स्वचालित किया जा सकता है, जैसे कीवर्ड शोध।

    अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: https://tinyurl.com/2p88vvav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

error: Content is protected !!