रिपोतार्ज(ripotaarj) परिभाषा, विशेषताऐं और प्रमुख रिपोतार्ज【 shirt trick】

💐रिपोतार्ज का प्रारम्भ :-

• 1936 में द्वितीय विश्व के समय

• हिंदी में प्रथम रिपोतार्ज लेखक :- शिवदान सिंह चौहान

• हिंदी का प्रथम रिपोतार्ज :-लक्ष्मीपुरा
(दिसम्बर,1938, रूपाभ पत्रिका,शिवदान सिंह चौहान)

• रिपोतार्ज के जनक :- इलिया एहरेनवर्ग (रूसी साहित्यकार)

💐 रिपोर्ताज का अर्थ :-

• फ़्राँसीसी भाषा का शब्द है

• अंग्रेज़ी शब्द ‘रिपोर्ट’ से इसका गहरा सम्बन्ध है।

• रिपोर्ट किसी घटना के यथातथ्य साध्य वर्णन को कहते हैं।

• रिपोर्ट सामान्यत: समाचार पत्र के लिए लिखी जाती है।

💐 रिपोर्ताज की परिभाषा : –

• रिपोर्ट के कलात्मक और साहित्यिक रूप को ही ‘रिपोर्ताज’ कहते हैं।

• ” रिपोर्ताज( सूचनिका ) किसी स्थान या घटना का यथार्थ संजीव मर्मस्पर्शी और संवेदना को उभारना वाला वर्णन होता है।” (डॉ. भगीरथ मिश्र के अनुसार)

💐 रिपोर्ताज की विशेषता : –
1. मर्मस्पर्शिता
2. संक्षिप्त
3. सत्यता
4. संजीवता
5. कथात्मकथा
6. चित्रोपमता
7. प्रवाह

💐 रिपोर्ताज के तत्व : –
1. तथ्यात्मकता
2. कथात्मकथा
3. पत्रकारिता
4. जनजीवन के प्रति सहानुभूति
5. सीमित आकार

💐 रिपोर्ताज short trick 💐

◆ शिवदान सिह चौहान ◆

• शिवदान सिह चौहान ने लक्ष्मीपुरा में मौत के खिलाफ जिन्दगी की जंग लड़ रहे हैं।
1. लक्ष्मीपुरा(रूपाभ पत्रिका में,1938)
2. मौत के खिलाफ जिंदगी (हंस पत्रिका में )

• रांगेय राघव को तूफानों के बीच लड़ना अच्छा लगता है।
★ रांगेय राघव :- तूफानों के बीच(विशाल भारत
पत्रिका में ,1946)

• भरत आनन्द कौसल्यायन कहते है कि हमें देश की मिट्टी बुलाती है।
★ भरत आनन्द कौसल्यायन :- देश की मिट्टी
बुलाती है(1966)

◆ प्रकाश चन्द्र गुप्त ◆

• स्वराज भवन अल्मोड़े का बज़ार मे स्थित जहॉ बंगाल का अकाल जैसे अकाल है।
1. स्वराज भवन
2. अल्मोड़े का बज़ार
3. बंगाल का अकाल(रेखाचित्र में संग्रहीत)

◆ फणीश्वरनाथ रेणु ◆
• फणीश्वरनाथ रेणु एकलव्य के नोट्स मे नेपाली क्रांती कथा का वर्णन किया।
1. ऋणजल धनजल
2. एकलव्य के नोट्स
3. नेपाली क्रांति कथा
4. श्रुत अश्रुत पूर्व

◆ विवेकीराय◆
• विवेकीराय जूलूस भाग ले रहे थे बाढ आयी और जूलूस रूका रहा।
1. जुलुस रुका है
2. बाढ़ !बाढ़!बाढ़!

💐💐प्रमुख रिपोर्ताज 💐💐

• नवाबी मसनद :- अमृतलाल नागर

• क्षण बोले कण मुस्कुराए(1975) :- कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’

• रंग और रेखा :- विनय मोहन

• युद्ध यात्रा(1972) :- धर्मवीर भारती

• गरीब और अमीर पुस्तकें :- रामनारायण उपाध्याय

• नववर्षांक समारोहक्ष में :- रामनारायण उपाध्याय

• इतिहास के पन्ने :- भगवतशरण उपाध्याय

• खून के छींटे :- भगवतशरण उपाध्याय

• प्लॉट का मोर्चा :- शमशेर बहादुर सिंह

• पेरिस के नोट्स :- रामकुमार वर्मा

• प्राग एक स्वप्न :- निर्मल वर्मा

• धरती के लिए :- कैलाश नारद

• क्या हमने कोई षड्यंत्र रचा था? :- सतीश कुमार

• क्रांति करते हुए आदमी को देखना :- कमलेश्वर

• खून के छींटे :- डॉ भगवतशरण उपाध्याय

• धरती के लिए :- कैलाश नारद

• प्राग : एक स्वप्न :- निर्मल वर्मा

• क्या हमने कोई षड्यंत्र रचा था :- सतीश कुमार

• पहाड़ों में प्रेममय संगीत :- उपेंद्र नाथ अश्क

• रेखाएँ और चित्र :- उपेंद्र नाथ अश्क

• वे लड़ेंगे हजार साल :- शिवसागर मिश्र

• अपोलो का रथ :- श्रीकांत वर्मा

• मुक्ति फौज :- श्रीकांत वर्मा

अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे।

4 comments

  1. Sunil Kumar village bani Khas post champaha bazar uttar pradesh kaushambi manjhanpur kaushambi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

error: Content is protected !!