New Update

हिन्दी भाषा एवं बोलिया

मध्यकालीन भारतीय आर्य भाषाएं( madhyakalin bharatiy aary bhashaen)

💐मध्यकालीन भारतीय आर्य भाषाएं 💐 【500 ई.पू. से 1000 ई.तक】 1. पालि ( प्रथम प्राकृत)【500 ई.पू. से 1 ई.तक】 2.प्राकृत (द्वितीय प्राकृत)【1ई.से 500 ई.तक】 3.अपभ्रंश(तृतीय प्राकृत) 【500 ई.से 1000 ई.तक】 💐1. पालि ( प्रथम प्राकृत)💐 【500 ई.पू. से 1 ई.तक】 • पालि का अर्थ बुद्ध वचन होने से यह शब्द केवल मूल त्रिपिटक ग्रंथों के लिए प्रयुक्त हुआ। • पालि ...

Read More »

प्राचीन भारतीय आर्य भाषाएं(purachin aary bharatiy bhashaen)

💐 प्राचीन भारतीय आर्य भाषाएं 💐 【1500 ई.पू. से 500 ई.पू. तक】 1. वैदिक संस्कृत 【1500 ई.पू. से 1000ई.पू. तक】 2. लौकिक संस्कृत 【1000 ई.पू. से 500 ई.पू. तक】 1. वैदिक संस्कृत 【1500 ई.पू. से 1000ई.पू. तक】 • वैदिक साहित्य का सर्जन वैदिक संस्कृत में हुआ है। • वैदिक संस्कृत को वैदिक, वैदिकी, छन्दस्, छान्दस् आदि भी कहा जाता है। ...

Read More »

हिन्दी भाषा के संबंध में विद्वानों के कथन(hindi bhasha ke sambandh me vidvano ke kathan)

हिन्दी भाषा

• अंग्रेजी सीखकर जिन्होंने विशिष्टता प्राप्त की है, सर्वसाधारण के साथ उनके मत का मेल नहीं होता। हमारे देश में सबसे बढ़कर जातिभेद वही है, श्रेणियों में परस्पर अस्पृश्यता इसी का नाम है।”                     रवीन्द्रनाथ ठाकुर • “भारतवर्ष में सभी विद्याएं सम्मिलित परिवार के समान पारस्परिक सद्भाव लेकर रहती आई हैं।”    ...

Read More »
error: Content is protected !!