Tag Archives: कामायनी महाकाव्य के संबंध में विद्वानों के विचार

कामायनी महाकाव्य के संबंध में विद्वानों के विचार(Kamayani mahakavy ke sambandh mein vidvanon ke vichar)

🌺कामायनी महाकाव्य के संबंध में विद्वानों के विचार🌺 🌺कामायानी (1935,जयशंकर प्रसाद)   ◆ मानवता का रसात्मक इतिहास ( नंददुलारे वाजपेयी)   ◆ मानव चेतना के विकास का महाकाव्य (डॉ. नगेंद्र)   ◆ छायावाद का उपनिषद्(शांतिप्रिय द्विवेदी)   ◆ मानवता का रसात्मक महाकाव्य (आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने कहा)   ◆ नए युग का प्रतिनिधि काव्य (नंददुलारे वाजपेयी)   ◆ आधुनिक सभ्यता का ...

Read More »
error: Content is protected !!