New Update

Tag Archives: पौराणिक प्रबन्ध काव्य

जैन साहित्य(jain sahity)

• कर्मकाण्डो से परे ,जाति वर्ण भेद से परे सबको मुक्ति का अधिकार प्राप्त करने का सन्देश जैन धर्म देता है। उत्तर भारत मे जैन धर्म के अनुयायी सर्वत्र ही है किन्तु 8वीं से 13वीं शती तक गुजरात मे जैन धर्म का व्यापक प्रभाव था। • जैन सबसे ज्यादा :– गुजरात और राजस्थान में • इनकी रचना की भाषा :- ...

Read More »
error: Content is protected !!