New Update

Tag Archives: “लोकनायक वही हो सकता है जो समन्वय कर सके।तुलसीदास महात्मा बुद्ध के बाद भारत के सबसे बड़े लोकनायक थे। उनका सम्पूर्ण काव्य समन्वय की विराट चेष्टा है।”

तुलसी के राम[tulasee ke ram]

TULSI KE RAM

💐 तुलसी के राम 💐 ◆ राम ही मेरे माता-पिता , बंधु, गुरु और शुभेच्छु है। ◆ मेरे स्वामी सखा और सहायक है ◆ देश, कोष, कुल, कर्म, धर्म, धन, धाम, पृथ्वी और गति भी राम ही है। ◆ मेरी जाति – पांति भी राम ही है और सम्मान भी उन्ही से ही है। ◆ परमार्थ स्वार्थ और सुयश आदि ...

Read More »
error: Content is protected !!