Tag Archives: ढोला मारु रा दूहा

लौकिक – श्रृंगारिक साहित्य

1. संदेश रासक • रचयिता :- अब्दुल रहमान/अद्दहमाण   • अब्दुल रहमान का परिचय :- ◆ मीरसेन आरद्द का पुत्र   ◆ स्थान :- मिच्छदेस (म्लेच्छ)[पश्चिमी पाकिस्तान]   ◆ मुल्तान निवासी( नाथूराम प्रेमी के अनुसार)   ◆ जाति :- जुलाहा   ◆ समय :- 11वीं शताब्दी का कवि (राहुल सांस्कृत्यायन के अनुसार)   ◆ 12वीं सदी के प्रथम मुस्लिम लेखक ...

Read More »

 ढोला मारु रा दूहा (dhola maru ra dooha)

 ढोला मारु रा दूहा (राजस्थान का प्रसिद्ध लोक काव्य) • रचयिता:- कल्लोल (14-15वीं सदी) • काव्यरूप – गेय मुक्तक(प्रेम गायात्मक काव्य) • प्रमुख रस – श्रृंगार रस • भाषा – राजस्थानी • निर्माण काल – संवत् 1530(जिसका उल्लेख इसके अंतिम दोहे में) ‘‘ पनरहसे तीसै वरस,कथा कहो गुण जाण। वदि वैसाखे वार गुरु,तीज जाण सुम वाण।।’’ • पात्र :- पुरुष ...

Read More »
error: Content is protected !!