Tag Archives: UGC NET EXAM में आये हुये स्थापना और तर्क – 1

UGC NET EXAM में आये हुये स्थापना और तर्क – 3

               🌺UGC NET EXAM में आये हुये स्थापना और तर्क – 3🌺   ◆ विरुद्धों का सामंजस्य कर्मक्षेत्र का सौंदर्य है जिसकी ओर आकर्षित हुए बिना मनुष्य का हृदय नहीं रह सकता। ● विरुद्धों का सामंजस्य चमत्कृत करता है और यही लोकधर्म का सौंदर्य है।   ◆ काव्य के संदर्भ में ‘काव्यानुभूति’,’रसानुभूति’ और ‘सौंदर्यानुभूति’ ...

Read More »

UGC NET EXAM में आये हुये स्थापना और तर्क – 1

🌺UGC NET EXAM में आये हुये स्थापना और तर्क🌺 ◆ नई आलोचना का केन्द्र बिन्दु-तनाव की स्थिति की परख और सौंदर्य की खोज है। क्योंकि नई आलोचना कविता को शब्द प्रतिभा मानती है।   ◆ आधुनिकतावाद वर्तमान की स्वीकृति और समीक्षा के नये सोपानों को स्थापित करता है।   ◆ क्रोध विवेक का शत्रु है क्योंकि क्रोध विवेक को नष्ट ...

Read More »
error: Content is protected !!