नेट की गद्य व पद्य रचनाए

भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है निबंध, भारतेंदु हरिश्चंद्र(bhaaratavarshonnati kaise ho sakata)

         💐भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है 💐                   【भारतेंदु हरिश्चंद्र】 ◆  प्रकाशन  :- 3 दिसंबर 1884ई. हरिश्चंद्र चन्द्रिका पत्रिका में ◆ छोटे से नगर बलिया में लेखक इतने मनुष्यों को एक बड़े उत्साह से एक स्थान पर देखते हैं। ◆ अभागे आलसी देश :- भारत देश को कहां है ◆ बलिया में जो कुछ लेखक ने देखा वह बहुत ही ...

Read More »

दिल्ली दरबार दर्पण निबंध, भारतेन्दु हरिश्चंद्र(dilli darbar darpan nibandh)

                 💐 दिल्ली दरबार दर्पण 💐 ◆ निबंधकार – भारतेंदु हरिश्चंद्र ◆ इस निबंध में 1877 ई. में लगे दिल्ली दरबार का वर्णन मिलता है। ◆ यहाँ भारतेंदु की राजभक्ति और देशभक्ति की मिश्रित भावना देखी जा सकती है। ◆  बड़े शासनाधिकारी राजाओं को  :- एक  रेशमी  झड़ा और सोने का तगमा मिला। ...

Read More »

तमस उपन्यास के महत्वपूर्ण कथन (tamas upanyas ke mahatvpurn kathan)

                  💐 तमस उपन्यास 💐 ◆ रचयिता :-  भीष्म साहनी ◆ प्रकाशन :- 1973 ◆ दो खण्डों में विभाजित ◆ यह उपन्यास  विभाजन कालीन दंगों तथा उसके पीछे कार्य कर रही अंग्रेजों की नीति ‘फूट डालो और राज्य करो का पर्दाफाश करता है। ◆  केन्द्र स्थल  :-  तत्कालीन पंजाब के पश्चिमी भाग( ...

Read More »

तमस उपन्यास के पात्रों का परिचय(tamas upanyaas ke paatron ka parichay)

💐 तमस उपन्यास 💐 ◆ रचयिता :-  भीष्म साहनी ◆ प्रकाशन :- 1973 ◆ दो खण्डों में विभाजित ◆ यह उपन्यास  विभाजन कालीन दंगों तथा उसके पीछे कार्य कर रही अंग्रेजों की नीति ‘फूट डालो और राज्य करो का पर्दाफाश करता है। ◆  केन्द्र स्थल  :-  तत्कालीन पंजाब के पश्चिमी भाग( मुसलमानों का बाहुल्य स्थल।) ◆ उपन्यास में सिर्फ पाँच ...

Read More »

तमस उपन्यास का सारांश(tamas upanyas ka saransh)

                   💐 तमस उपन्यास 💐 ◆ रचयिता :-  भीष्म साहनी ◆ प्रकाशन :- 1973 ◆ दो खण्डों में विभाजित ◆ यह उपन्यास  विभाजन कालीन दंगों तथा उसके पीछे कार्य कर रही अंग्रेजों की नीति ‘फूट डालो और राज्य करो का पर्दाफाश करता है। ◆  केन्द्र स्थल  :-  तत्कालीन पंजाब के पश्चिमी भाग( ...

Read More »

‘स्पीति में बारिश’ यात्रावृत्तांत (speeti mein barish yatravrttant)

        💐💐 स्पीति में बारिश  💐💐 ◆ ‘स्पीति में बारिश’ यात्रावृत्तांत के रचयिता :-कृष्णनाथ ◆ स्पीति स्थान अपनी भौगोलिक एवं प्राकृतिक विशेषताओं के कारण अन्य पर्वतीय स्थलों से भिन्न है। लेखक ने इस पाठ मे स्पीति की जनसंख्या ऋतु फसल, जलवायु तथा भूगोल का वर्णन किया है जो परस्पर एक- दुसरे संबंधित है। ◆ इस यात्रावृत्तांत में ...

Read More »

चन्द्रदेव से मेरी बातें कहानी(chandradev se meri baten kahani)

💐💐 चन्द्रदेव से मेरी बातें 💐💐 ◆ कहानीकार :- राजेन्द्र बाला घोष (बंग महिला) ◆  प्रकाशन :- 1904 ई. में, सरस्वती पत्रिका में ◆ शैली :-  मैं शैली में लिखी गई [पत्रात्मक शैली में ] ◆  पात्र :- स्वयं लेखिका ◆ कहानी का विषय :- 1. जाति गत पक्षपात का पर व्यंग्य। 2. बेरोज़गारी की समस्याओं का चित्रण। 3. समाज ...

Read More »

सिंदूर की होली नाटक( Sindur Ki Holi Natak)

  💐💐 सिंदूर की होली 💐💐 ◆ नाटककार :- लक्ष्मीनारायण मिश्र ◆ प्रकाशन :-  1934ई. ◆ अंक :-  3 अंक ◆ दृश्य :- तीन (पहला दृश्य :- 9 बजे का दूसरा दृश्य :-  साध्यकाल का तीसरा दृश्य  :- 10 बजे रात्रि का ) ◆  दृश्य का स्थल :- डिप्टी कलेक्टर मुरारीलाल के बंगले की बैठक।(एक ही है) ◆ शैली:- पूर्वदीप्ती ...

Read More »

अंजो दीदी(Anjo Didi Natak)

💐💐 अंजो दीदी 💐💐 ◆  नाटककार  :- उपेंद्रनाथ अश्क ◆ प्रकाशन :- 1955 ई. ◆  अंक :- दो अंक ◆ दृश्य :- 4 दृश्य (3+1) ◆ सामाजिक और मनौवैज्ञानिक नाटक ◆  उपेंद्रनाथ अश्क का सर्वाधिक प्रौढ़ नाटक ◆ नाटक के पात्र :- ★ पुरुष पात्र :- 1. श्रीपत (अंजो का भाई) 2. इन्द्रनारायण (वकील) – अंजली का पति 3. राधू ...

Read More »

आधे – अधूरे नाटक (Aadhe Adhure Natak)

            💐💐 आधे – अधूरे नाटक 💐💐 ◆ नाटककार :- मोहन राकेश ◆ प्रकाशित :- 1969 ई. ◆ यह नाटक ‘धर्मयुग’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ। ◆ मोहन राकेश का यह तीसरा एवं बहुचर्चित नाटक है । ◆ आधे-आधूरे पारिवारिक जीवन के विघटन की गाथा है। ◆ आधे – अधूरे में एक भी अंक नहीं है। ...

Read More »

आषाढ़ का एक दिन नाटक (Ashad Ka Ek Din Natak)

💐💐 आषाढ़ का एक दिन 💐💐 ◆  नाटककार :-  मोहन राकेश ◆  लिखा गया :- 3 मार्च से 21 अप्रैल 1958 ई. के बीच ◆  प्रकाशन :- जून 1958 ई. ◆ अंक :- तीन अंक ◆ दृश्य :-  एक (मल्लिका के घर का ) ◆ आषाढ़ का एक दिन मोहन राकेश का पहला नाटक है। ◆ आषाढ़ का एक दिन ...

Read More »

भारत दुर्दशा नाटक (Bharat Durdasha Natak)

💐💐 भारत दुर्दशा 💐💐 ◆ नाटककार :- भारतेन्दु हरिश्चंद्र ◆ प्रकाशन :-1880 ई. में ◆ यह एक नाट्यरासक ◆  शैली :- प्रतीकात्मक व्यंग्यात्मक ◆ अंक :- 6 अंक ◆ यह नाटक भारत की तत्कालीन यथार्थ दशा से परिचित करता है। ◆ हिंदी का पहला राजनीतिक नाटक ◆ नाटक के पात्र :- 1.  भारत दुदैव (देश का विनाश का मूल,आधा किस्तानी ...

Read More »

अंधेर नगरी नाटक (Andher Nagri Natak)

💐💐 अंधेर नगरी 💐💐 ◆  नाटककार :- भारतेंदु हरिश्चन्द्र ◆ प्रकाशन :-  1881 ई. ◆ शैली:-  हास्य-व्यंग्य ◆ एक  प्रकार का प्रहसन ◆ अंक :-  6 अंक ◆ आधार नाटक की रचना बिहार के रजवाड़े की गई है। ◆  लेखक ने  इस नाटक को एक ही रात में लिखकर पूरा किया। ◆ ‘हिन्दू नेशनल थिएटर’ नामक एक रंग संस्था में  ...

Read More »

महाभोज नाटक (Mahabhoj Natak)

💐💐 महाभोज नाटक  💐💐 ◆ सर्वप्रथम उपन्यास के रूप 1979 ई. में प्रकाशित हुआ। ◆ फिर महाभोज उपन्यास को नाटक के रूप में 1983 ई. में प्रकाशित किया गया। ◆ महाभोज नाटक का कथानक 1977 ई. में घटित बिहार के पटना जिले का बेलछी नरसंहार है। ◆ कुल दृश्य :-  11 दृश्य ( अंक नही है, दृश्यों में विभाजित है।) ...

Read More »

बकरी नाटक (Bakri Natak)

     💐💐 बकरी  नाटक 💐💐 ◆ नाटककार :- सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ◆ प्रकाशन :- 1974 ई. ◆ एक प्रतीक नाटक ◆ अंक:-  दो अंक ◆ दृश्य  :- 6 दृश्य ( प्रत्येक अंक में 3 दृश्य) ★ नाटक की शैली:- प्रतीकात्मक और  व्यंग्यात्मक ◆ बकरी गरीब जनता का प्रतीक है। ◆ नाटक के पात्रः- 1.  नट और  नटी 2. भिश्ती 3. ...

Read More »
error: Content is protected !!