नेट की गद्य व पद्य रचनाए

अमृतसर आ गया कहानी(amrtasar aa gaya kahani)

      💐अमृतसर आ गया है कहानी💐               【भीष्म साहनी】 ◆ प्रकाशन :-.1971ई. ◆ प्रमुख पात्र :- ● कथानायक ● दुबला बाबू ● सरदार जी ● बुढ़िया ● तीन पठान व्यापारी ● लटकती मूँछों वाला आदमी ◆ भीष्म.साहनी ने कहानी में व्यक्ति के मनोविज्ञान को बहुत ही सुक्ष्मता से रेखांकित किया है। ◆  विभाजन कालीन परिस्थितियों ने व्यक्ति को क्रूर बना ...

Read More »

कोसी का घटवार कहानी(Kosi ka Ghatwar kahani)

     💐 कोसी का घटवार कहानी💐               【शेखर जोशी] ◆प्रकाशन :- 1957ई. ◆ कल्पना पत्रिका में प्रकाशित ◆ कोसी घटवार कहानी संग्रह से ◆ प्रमुख पात्र :- ● गुसाई (फौजी) ● नरसिंह(बुढ्ढा प्रधान) ● धरमसिंह(हवालदार) ● लछमा (गुसाईं की प्रेमिका) ● रमुआ/रामसिंह(लछमा का पति) ● किसन सिंह (गुसांई की यूनिट का सिपाही) ● लछमा का लड़का ● लछमा के जेठ ...

Read More »

अपना – अपना भाग्य कहानी(Apna Apna Bhagya Kahani)

       💐अपना-अपना भाग्य कहानी💐                 【जैनेंद्र कुमार] ◆ प्रकाशन :- 1931 ई. ◆ वातायन कहानी संग्रह से ◆  प्रमुख पात्र  :- ● कथावाचक ● कथावाचक का मित्र ● दस वर्षीय बेघर पहाड़ी बच्चा ◆ रूई के रेशे-से भाप से बादल हमारे सिरों को छू-छूकर बेरोक-टोक घूम रहे थे। हल्के प्रकाश और अंधियारी से रंगकर कभी वे नीले दीखते, कभी सफेद ...

Read More »

दुनिया का सबसे अनमोल रत्न कहानी(duniya ka sabase anamol ratn kahani))

   💐दुनिया का सबसे अनमोल रत्न 💐             【मुंशी प्रेमचंद】 ◆ प्रकाशन :- 1907,जमाना पत्रिका में प्रकाशित ◆ ‘सोजे वतन’ कहानी संग्रह से ◆ पात्र :- ● दिलफ़िगार ● दिलफ़रेब ● काला चोर ● एक बुजुर्ग व्यक्ति ◆ कहानी का नायक :- दिलफ़िगार • * दिलफ़िगार( फ़ारसी भाषा का शब्द) का अर्थ :- आशिक़,घायल दिल वाला,  नायक ◆ कहानी की ...

Read More »

राही कहानी(rahi kahani)

           💐 राही कहानी 💐         【सुभद्राकुमारी चौहान】 ◆ प्रकाशन :- 1947ई. ◆  ‘सीधे सादे चित्र’कहानी संग्रह से ◆  पात्र :- चोरी का दोषी राही                स्वतंत्रता सेनानी अनीता ◆ राही को किस अपराध में सज़ा हुई ? – चोरी की थी, सरकार । ◆ राही सरकार कहकर किसे संबोधित कर रहा था ? :- अनिता को ◆ राही ने ...

Read More »

एक टोकरी भर मिट्टी कहानी(ek dokari bhar mittee kahani)

      💐एक टोकरी भर मिट्टी 💐 ◆ प्रकाशन :- 1901,छत्तीसगढ़ मित्र पत्रिका में ◆कहानीकार :- माधवराव सप्रे ◆ गरीब अनाथ विधवा की झोंपड़ी कहां थी?:-  जमींदार के महल के पास ◆ जमींदार ने विधवा से बहुत बार  झोपड़ी हटाने के लिए कहा। ◆ गरीब अनाथ विधवा का प्रिय पति और इकलौता पुत्र इसी झोंपड़ी में मर गया था। ◆  पतोहू( ...

Read More »

चन्द्रदेव से मेरी बाते कहानी(chandradev se meri bate kahani)

💐 चन्द्रदेव से मेरी बातें💐 【 राजेंद्र बाला घोष/बंग महिला】 ◆  प्रकाशन :-1904ई. सरस्वती पत्रिका में ◆ भगवान चन्द्रदेव! आपके कमलवत् कोमल चरणों में इस दासी का अनेक बार प्रणाम। ◆  आज मैं आपसे दो चार बातें करने की इच्छा रखती हूँ। ★ आप इस आकाश मंडल में चिरकाल से वास करते हैं। क्या यह बात सत्य है ? ★ ...

Read More »

दुलाई वाली कहानी(dulai wali kahani)

                💐💐  दुलाईवाली 💐💐 ◆ कहानीकार :- राजेन्द्र बाला घोष(बंग महिला) ◆  प्रकाशन-1907 ई.में, सरस्वती पत्रिका में ◆  पात्र :- 1. वंशीधर(इलाहबाद  निवासी ) 2. जानकी देई (वंशीधर की पत्नी, ग्रहस्थ महिला) 3. सीता (जानकी की बहन,वंशीधर की साली) 4. नवलकिशोर (वंशीधर का ममेरा भाई,हंसमुख व्यक्ति) 5.लाठीवान (ट्रेन में एक यात्री) 6.वंशीधर की सास 7.वंशीधर की साला 8. इक्केवाला ◆ ...

Read More »

ठकुरी बाबा संस्मरणात्मक रेखाचित्र(thakuri baba sansmaranatmak rekhachitr)

                   💐 ठकुरी बाबा (महादेवी वर्मा)💐 ◆ प्रकाशन :- 1947ई. ◆ स्मृति की रेखाएं से ◆ संस्मरणात्मक रेखाचित्र ◆ इस रेखाचित्र में ग्रामीण समाज का चित्रण है। ◆  महादेवी वर्मा रेखाचित्रों में जिन चरित्रों का वर्णन किया है वे समाज के गरीब एवं अशिक्षित वर्ग से संबद्ध हैं। ◆ महादेवी के कल्पवास ...

Read More »

प्रियप्रवास की भूमिका(priyapravas ki bhumika)

               💐💐 प्रियप्रवास की भूमिका 💐💐 ◆ मैं बहुत दिनों से हिन्दी भाषा में एक काव्य-ग्रन्थ लिखने के लिये लालायित था । आप कहेंगे कि जिस भाषा में ‘रामचरितमानस’ ‘सूरसागर’ ‘रामचन्द्रिका’ ‘पृथ्वीराज रायसा ‘पद्मावत’ इत्यादि जैसे बड़े अनुठे काव्य प्रस्तुत हैं, उसमें तुम्हारे जैसे अल्पज्ञ का काव्य लिखने के लिये समुत्सुक होना वातुलता नहीं ...

Read More »

रश्मिरथी की भूमिका(Rashmirathi ki bhumika)

         💐💐“रश्मिरथी” की भूमिका💐💐          【 राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर】 ◆ रश्मिरथी का अर्थ :- ‘सूर्य की सारथी’ ◆ हिन्दी के महान कवि रामधारी सिंह दिनकर द्वारा रचित ◆   खण्डकाव्य ◆ काव्य का आरम्भ :- 26 फरवरी 1950 ई.  को किया था। ◆  प्रकाशन :-  1952  ◆  कुल  सर्ग  :- 7   सर्ग ◆  जिसमें ...

Read More »

कामायनी की भूमिका(kamayani ki bhumika)

                 💐कामायनी की भूमिका 💐 ◆ साहित्य में मानवों के आदिपुरुष मनु का इतिहास वेदों से लेकर पुरान और इतिहासों में बिखरा हुआ मिलता है। ◆ श्रद्धा और मनु के सहयोग से मानवता के विकास की कथा को, रूपक के आवरण में, चाहे पिछले काल में मान लेने का वैसा ही प्रयत्न हुआ ...

Read More »

बुधिया,माटी की मूरते से (Budhiya,Maatee kee mooraten rekhachitra se)

💐माटी की मूरतें(रामवृक्ष बेनीपुरी) 💐 ◆ श्रीरामवृक्ष बेनीपुरी के विचार  :- ● किसी बड़ या पीपल के पेड़ के नीचे, चबूतरे पर कुछ मूरतें रखी हैं- माटी की मूरतें! ● माटी की मूरतें न इनमें कोई खूबसूरती है, न रंगीनी। ● बौद्ध या ग्रीक रोमन मूर्तियों के हम शैदाई यदि उनमें कोई दिलचस्पी न लें, उन्हें देखते ही मुँह मोड़ ...

Read More »

सुभान खाँ,माटी की मूरते से (Subhan khan,,Maatee kee mooraten rekhachitra se)

💐माटी की मूरतें(रामवृक्ष बेनीपुरी) 💐 ◆ श्रीरामवृक्ष बेनीपुरी के विचार  :- ● किसी बड़ या पीपल के पेड़ के नीचे, चबूतरे पर कुछ मूरतें रखी हैं- माटी की मूरतें! ● माटी की मूरतें न इनमें कोई खूबसूरती है, न रंगीनी। ● बौद्ध या ग्रीक रोमन मूर्तियों के हम शैदाई यदि उनमें कोई दिलचस्पी न लें, उन्हें देखते ही मुँह मोड़ ...

Read More »

बैजू मामा,माटी की मूरते से (Baiju Mama,Maatee kee mooraten rekhachitra se)

         💐माटी की मूरतें(रामवृक्ष बेनीपुरी) 💐 ◆ श्रीरामवृक्ष बेनीपुरी के विचार  :- ● किसी बड़ या पीपल के पेड़ के नीचे, चबूतरे पर कुछ मूरतें रखी हैं- माटी की मूरतें! ● माटी की मूरतें न इनमें कोई खूबसूरती है, न रंगीनी। ● बौद्ध या ग्रीक रोमन मूर्तियों के हम शैदाई यदि उनमें कोई दिलचस्पी न लें, उन्हें ...

Read More »
error: Content is protected !!